Skip to main content

kismat

Hello doston main aapka sathi or a
motivator ek bar FIR hajir hun ek nai Kahani ke sath 

Chalo ab Kahani shuru karte Hain yah Kahani ek ladke per aadharit hai ki kaise usne apni kismat mein bar bar dhoka Dene ke bavjud bhi himmat nahin a Rahi or apni life mein ek kamyab insan banaa aur dusron ko bhi prerit Kiya apna jaise banne ke liye
Namaskar dosto I Kahani shuru karte hain yah ladki ki hai jiska naam Suresh hai ghaziabad ka rahane wale ek sadharan ladka hai job ki talash kar raha hai 

Comments

Popular posts from this blog

Motivational Story of Friends part-6

हेलो दोस्तो मैं एक बार फिर हाजिर हूँ आप सब के लिए कहानी का आखरी भाग ले कर आया हूँ जिसमे हम जाने की प्रिया के एग्जाम का क्या रिजल्ट आया और पढ़ाई के बाद सब की लाइफ में क्या हुआ   नमस्कार दोस्तों में एक बार फिर मे आपका स्वागत करता हूँ अपनी इस लव स्टोरी पे जहा आपको अनोखी लव स्टोरी पढ़ने को मिलेगी पिछली कहानी में आप सब का बहुत सारा प्यार मिला जिस के लिया आप सब का दिल से धन्यवाद चलो अभ कहानी सुरु करते है  पिछली कहानी में आप सब ने पढ़ा की  सब फिर से  पुराने दोस्त की तरह बन जाते है और सब पार्टी को खुब एन्जॉय  करते है और अपने अपने घरआ जाते है और  कुस दिनों बाद सब अपने एग्जाम देते है और कुस दिनों बाद  एग्जाम के का रिजल्ट आ जाता है और प्रिया और महेश क्लास में टॉप  करते है बाकि सब भी अचे नंबरो से पास हो जाहते है बस सोनू कुस नंबरो से फ़ैल हो जाता है और उधर प्रिय और महेश के कॉलेज में टॉप करने के कारन उन्हें लंदन में आगे पढ़ने के लिया कॉलेज की तरफ से स्कॉलरशिप मिलती है जिस से ये दोनों बहुत खुश होते है लकिन सोनू फ़ैल होने के कारन बहुत दुखी होता है सब अपने अपने घर आ जाते है और प्रिया घर पे आ कर घरवालों को अप

Motivational Story of Friends part-4

हेलो दोस्तों मैं आपका दोस्त आपका मोटिवेटर एक बार फिर हाजिर हूँ  आपके लिया हमारी स्टोरी का तीसरा भाग ले कर आया हूँ  आप के लिया जिसमे हम जाने की कैसे सोनू महेश और प्रिय कॉलेज में कैसे मिलते है    नमस्कार दोस्तों मैं आपका साथी ,कहानी का अगला भाग ले कर आपके सामने हाजिर हूँ  पहले तो मैं आप सब से माफी मांगता हूँ कहनी का ये भाग आपके  सामने लाने में थोड़ी देर हो गयी ! चलो अब  कहानी सुरु करते है जैसे की आप सब जानते है की सेठ जी कहने पर सोनू प्रिया को ले  कर  अलाहाबाद आ जाता है जहा रैलवेस्टेशन पर सेठ जी के दोस्त जिनका नाम सुदेश प्रसाद है जो इनका इंतजार कर रहे होते है।, वो इन्हे मिलते है सोनू और प्रिया उने  नमस्ते करते  है और ये सब सेठ जी के दोस्त सुदेश जी के साथ  उनके घर चले जाते है वहा सुदेश जी की लड़की निशा और उनकी पत्नी कमला उनका इंतजार कर रहे होते है घर पर आने के बाद निशा और कमला दोनों मिलकर स्वागत करते है सुदेश प्रिया को निशा से मिलवाता है और बताता है की निशा भी b.sc first year में ही है और तुम दोनो इसके साथ ही कॉलेज जाएंगे ,निशा और प्रिया दोनों मिलते है  और निशा सुदेश जी से कहती है पापा प्रि

Try one more time

Pen it down You will be found Just try  With no bounds.

Nazariya Bura to Sub Bura

 Nazariya Bura ho to Sab bura hi dekhta hai, Nazariye ki baat hai Ek chor ko Raja bhi chor hi dekhta hai  Waise hi ek Sajjan ko Sab Sajjan hi dekhte hai bhale hi koi dakku kyu na ho Insan logo ko khud ki Nazar se dekhta hai insaan Jaisa wo khud sochta hai Samne wale ko bhi waise hi samjhe lagta hai  bina uske bare me jane use apne jaisa samjh leta hai ish liya kahte hai kud badlo agar Duniya Dadlni Hai                                           चलो मैं आपको एक कहानी सुनाता हूँ एक चोर और संत की               एक गॉव में एक चोर और एक महात्मा थे ,चोर अपनी परिवार के साथ गॉव में रहता था और संत एक पेड़ के निचे  हमेशा भगवान की भक्ति में मस्त रहता था चोर रोज चोरी कर के गॉव में जाते समय संत के पास से हो कर जाता था और संत को कहता था आप इस दुनिया में भी सब को अच्छी नजर से कैसे देखते हो जहा सब चोर है संत चोर की बाते सुन  मुस्कुरा देहते थे, ये चोर को समझ नहीं आती थी और वो चोरी का सामान बेच कर अपने घर का सामान खरीद लेता था और अपने घर आ जाता था उसी सामन से वो अपने परिवार का पेठ पालता था चोरी करने के कार